गुरुवार, 4 नवंबर 2010

जरा इधर भी: जल रहे जज्बात

जरा इधर भी: जल रहे जज्बात: " शब्द मायूस हैं संवेदनाएं खामोश जज्बातों के खंडहर में फड़फड़ा रही है अभिव्यक्ति ये कैसा समय है दोस्तों कि हम और तुम बहुत कुछ कहना चाह रहे ह..."

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर
    दीपावली पर्व पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं