गुरुवार, 3 नवंबर 2011

बस्तर में ब्रह्म

जगदलपुर के रविराज ने फेसबुक पर कुछ पुरातात्विक तस्वीरें पोस्ट की हैं। उन्होंने जो जानकारी दी है, उसके मुताबिक ये तस्वीरें बस्तर के बीजापुर जिले के गांव मिरतुर की हैं। गांव भैरमगढ़ तहसील में है। उन्होंने दावा किया है कि भारत का दूसरा ब्रह्मामंदिर बस्तर में है। यानी पुस्कर के अलावा भी ब्रह्माजी की पूजा भारत के दिगर इलाकों में हुआ करती थी। तस्वीरों से पता चलता है कि इन दुर्लभ मूर्तियों की जानकारी प्रशासन को है, लेकिन उनके संरक्षण की औपचारिकता सिर्फ एक बोर्ड लगाकर कर दी गई है। बस्तर में दुर्लभ मूर्तियों की चोरियों की कई घटनाएं पढ़ने सुनने को मिली हैं। दंतेवाड़ा जिला मुख्यालय में स्थित दंतेश्वरी मंदिर में जब चोरी हो सकती है तो मिरतुर की यह जगह तो तस्वीर में लगभग वीरान दिख रही है। श्री रविराज के आभार सहित ये तस्वीरें-





7 टिप्‍पणियां:

  1. मिने ब्रह्मा जी की कोई प्रतिमा न देखी थी इसके पहले

    उत्तर देंहटाएं
  2. बढिया जानकारी।
    आभार.............

    उत्तर देंहटाएं
  3. are! yah to vakai ek durlabh si bat hai. pata nahi kyn hamnara shasan prashasan soya rahta hai, aur us se bhi jyada soya rahta hai hamara parytan aur sansriti vibhaag aur uske mantri ji, pushhkar bhrama ji k karan hi ek badaa teerth sthal hai, aur ye brahma ji ka dusra mandir jise kahaa ja raha hai vo upekshhit saa hai. sharm sharm

    उत्तर देंहटाएं
  4. दूर्लभ जानकारी, पता करना चाहिए कि किस काल की है यह मुर्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुर्लभ तस्वीरे...क्या अब तक इन मूर्तियों का सही तरीके से संरक्षण नहीं हुआ ??

    उत्तर देंहटाएं